सुख और आनंद शांति के लिए महत्वपूर्ण हैं! क्या शांति के बिना खुशी हो सकती है?

 

क्या आपने देखा है कि संकट के समय में, जीवन की अन्य व्यक्तिगत समस्याएं अपना महत्व खो देती हैं? ऐसे समय में हम स्वाभाविक रूप से जनता की भलाई के लिए मिलकर काम करना शुरू करते हैं। जब भी हमारा अस्तित्व अस्तित्व में है, तब एकता का महत्व है। महान लेखक और दार्शनिक जेम्स एलेन ने देखा कि सर्दियों में, ट्राफलगर स्क्वायर के गौरैया भी झुंड में इकट्ठा होते हैं और जो भी भोजन उन्हें मिल सकता है उसे साझा करते हैं। गर्मियों में, हालांकि, जब भोजन भरपूर मात्रा में होता है, तो वे भोजन और स्थान के लिए लड़ते हैं। आपदा आने पर जैविक आवश्यकताओं पर बल दिया जाता है। जीवित रहने के लिए प्रजाति को एक व्यक्तिगत प्रयास की आवश्यकता है, न कि व्यक्तिगत प्रयास की। इसलिए प्रतिस्पर्धी भावना का दमन किया जाता है। विपत्ति के समय में, हम वर्तमान क्षण में व्यस्त हैं। जब हम ध्यान करते हैं, तब भी हम वर्तमान क्षण में मौजूद होते हैं। ध्यान में हम पहले मन को एक विचार पर तय करते हैं जिसे योग में धारणा कहते हैं।

 

 

अगर हम कुछ सवालों पर गौर करें, तो हम एक शांतिपूर्ण दुनिया बनाने का एक सरल फार्मूला पाते हैं।

सवाल है – क्या शांति के बिना सुख हो सकता है? क्या सद्भाव के बिना शांति हो सकती है?

क्या ध्यान के बिना सशक्तिकरण हो सकता है? क्या ध्यान केंद्रित किए बिना ध्यान करना संभव है? क्या एकाग्रता के बिना सोचना संभव है? ध्यान वह कौशल है जो एकाग्रता, शांति, सद्भाव और खुशी की ओर ले जाता है। ध्यान में हम सबसे पहले आत्म-संतुष्टि की स्थिति तक पहुँचते हैं, फिर हम आत्मा के निकट संपर्क में आते हैं और शांति का अनुभव करते हैं। जब हम आत्मा के अस्तित्व को नकारते हैं तो शांति भंग होती है। सुख और आनंद के लिए शांति आवश्यक है। शांति और आनंद दोनों आत्मा के गुण हैं। जीवन में शांति और खुशी के लिए हमें आत्मा को अपने दैनिक कार्यों में शामिल करना होगा।

Leave a Comment